Services


Pandit ji Services

Welcome to Arya Samaj Surat official Web Portal, Court and Love Marriage Details Documentations, process, Wedding Hall Avability Antyesti and Shanti Havan. Plz contact Pandit- 7016935022

Arrange Marriage

Arranged marriages are traditional in Indian society and continue to account for an overwhelming majority of marriages in the Indian subcontinent.Despite the fact that romantic love is "fulsomely celebrated" in both Indian mass media (such as Bollywood) and folklore, and the arranged marriage tradition lacks any official legal recognition or support. Read More

Love Marriage

A love marriage is a union of two individuals based upon mutual love, affection, commitment and attraction. Love is a dream and marriage is just an extension of this dream to reality. When both dream and reality comes together, it is the best thing that can happen to a person. Love is the subtle emotional wave within us, which is perennial in this world of death and passing away. Read More

Intercast Marriage

Inter Caste marriages prevailed in India as a result of a very rigid caste system. Upper caste people would not have any marriage alliance with lower caste people. Even if there are eligible bachelors available it was seen as a sin to think of mixing alliances from one caste to another. Read More

Nandni Yoga Center

If you are living in Surat, Bharuch, Ankleshwar, Bardoli, Navsari, Valsad, Vapi so find Yoga Trainer Surat fast Services your Place. Plz call us our Helpline. Yoga is a spiritual science of self-realisation. It comes from India and goes back over five thousand of years. The Indian sage Pantajali, in his Yoga sutras defines yoga as the control of the activities of the mind. Yoga methods encompass the entire field of our existence, from the physical, emotional and mental to the spiritual.

Marriage Services

Arrange Marriage

Arranged marriages are traditional in Indian society and continue to account for an overwhelming majority of marriages in the Indian subcontinent.

Intercaste Marriage

Inter Caste marriages prevailed in India as a result of a very rigid caste system. Upper caste people would not have any marriage alliance with lower caste people.

Love Marriage

A love marriage is a union of two individuals based upon mutual love, affection, commitment and attraction.

Meet the Team

Acharya Umashankar President- Arya Samaj Bhatar Surat

Pandit Jagdish Shastri Priest- Arya Samaj Bhatar Surat

Pandit Chandan Kumar Priest- Arya Samaj Bhatar Surat

About Arya Samaj

On April 10th, 1875, the organisation called "Arya Samaj" was formally registered in Bombay (Mumbai), India. Arya Samaj, as the name signifies, is a Samaj (Organisation) of Aryas (people who are noble). Further clarified, the Arya Samaj is a Society of Noble People, who follow the Veda (the Word of God handed down to mankind in the begining) and try to behave in accordance with the teachings of the Veda. The Arya Samaj was founded by Maharishi Swami Dayananda Saraswati, a sanyasin (renouncer) who believed in the infallible authority of the Vedas. He advocated the doctrine of karma and reincarnation, and emphasised the ideals of brahmacharya (chastity) and sanyasa (renunciation). The motto of the Arya Samaj taken from the Vedas is "Krinvanto Vishwam Aaryam" (Rig Veda 9.63.5) - Make all men.

Arya Samaj Activity

Arya Samaj Dainik Agnihotra

आर्य समाज द्वारा प्रतिदिन प्रातः 7 से 8 बजे तक संध्या और यज्ञ संचालित है। यदि यज्ञ प्रेमी महानुभावों को दैनिक यज्ञ में यजमान बनने के इच्छा हो तो इस सन्दर्भ में आर्य समाज कार्यालय को सूचित करने की कृपा करे।

Arya Samaj Weekly Satsang

सार्वदेशिक सभा द्वारा निर्धारित रविवारीय सत्संग आर्य समाज द्वारा प्रति रविवार प्रातः 8 से 9.30 बजे से संध्या, यज्ञ, भजन, वेद स्वाध्याय और प्रवचन आदि कार्यक्रम निर्धारित है। आप सभी महानुभाव का इस साप्ताहिक सत्संग में उपस्थित होकर सत्संग का लाभ प्राप्त करे।

Arya Samaj Pariwarik Satsang

आर्य समाज द्वारा समय-समय पर पारिवारिक सत्संग का आयोजन पूर्णिमा या अमावस्या तिथि को किया जाता है। यदि कोई महानुभाव अपने आवास पर इस कार्यक्रम को रखने के इछुक हो तो आर्य समाज कार्यलय से संपर्क करे।

Arya Samaj Yoga Center

आर्य समाज की एक अन्य सहयोगी संस्था नंदनी योग सेवा ट्रस्ट द्वारा प्रतिदिन योग की कक्षाऐ संचालित है जिससे आज तक हजारों महानुभावों ने लाभ प्राप्त किया है। यदि आप भी प्रति दिन योग-आसान करने के इछुक है तो हमारे कार्यालय से संपर्क कर जानकारी प्राप्त करें।

Arya Samaj Ayurved Aushdhalaya

आर्य समाज द्वारा आयर्वेद औषधालय की व्यवस्था है जहाँ पर विभिन आयुर्वेद सम्बंधित औषधियों तथा चिकित्सक की व्यवस्था है।

Arya Samaj ke Niyam

१. सब सत्यिध्या और जो पदार्थ विध्या से जाने जाते हैं, उन सबका आदिमूल परमेश्वर है ।

२. ईश्वर सच्चिदानंदस्वरूप, निराकार, सर्वशक्तिमान, न्यायकारी, दयालु, अजन्मा, अनन्त, निर्विकार, अनादि, अनुपम, सर्वाधार, सर्वेश्वर, सर्वव्यापक, चर्वान्तर्यामी, अजर, अमर, अभय, नित्य, पवित्र और सृष्टिकर्ता है, उसी की उपासना करनी योग्य है ।

३. वेद सब सत्यविध्याओं का पुस्तक है । वेद का पढ़ाना - पढ़ाना और सुनना - सुनाना सब आर्यो का परम धर्म है ।

४. सत्य के ग्रहण करने और उसत्य के छोड़ने में सर्वदा उद्यत् रहना चाहिएँ ।

५. सब काम धर्मानुसार, अर्थात् सत्य और असत्य को विचार करके करने चाहिएँ ।

६. सँसार का उपकार करना इस समाज का मुख्य उद्धेश्य है, अर्थात् शारीरिक्, आत्मिक और सामाजिक् उन्नति करना ।

७. सबसे प्रीतिपूर्वक, धर्मानुसार यथायोग्य वर्तना चाहिए ।

८. अविध्या का नाश विध्या कि दृध्दि करनि चाहिए ।

९. प्रत्येक को अपनी ही उन्नति से सन्तुष्ट न रहना चाहिए, किन्तु सब की उन्नती सें अपनी उन्नति समझनी चाहिए ।

१०. सब मनुष्यों को सामाजिक, सर्वाहितकारी, नियम पालने में परतन्त्र रहना चाहिए आर प्रत्येक हितकारी नियम पालने सब स्वतंत्र रहें ।

Letest News & Gallery

  • आपने पुत्र के जन्मदिवस पर एक पूजा करने का मन हुआ। मैंने इस कार्य हेतु कई पंडितो से बात की पर सन्तुष्ट नहीं हुई। मेरे एक मित्र ने मुझे आर्य समाज के बारे में बताया कि वहाँ भी पंडित जी की सुविधा उपलब्ध है आप एक बार उनसे भी बात करें। मैंने आर्य समाज के पंडित जी से बात करके उन्हें इस कार्यक्रम हेतु आमंत्रित किया। मुझे पहली बार पता चला कि जन्मदिन पर आयुष्यकाम या संजीवनी यज्ञ करने की परंपरा हमारे प्राचीन शास्त्रों में की गयी है। पंडित जी का हार्दिक रूप से बहुत-बहुत धन्यवाद।

    Priya Desai, Surat

  • आर्य समाज मंदिर में मेरे पुत्र का विवाह संस्कार संपन्न हुआ। मैंने आज तक विवाह की जो भी पद्धतियां देखी उन सबमें आर्य समाज की विधि सबसे अच्छी लगी। विधियों के साथ-साथ पंडित जी ने विधियों के महत्त्व के बारे में जो ज्ञान दिया वो अपने आप में अद्भुत था। कम खर्च में विधिवत विवाह विधि के साथ लीगल सर्टिफिकेट भी प्राप्त हुआ। मैं इस सबके लिए आर्य समाज का आभार व्यक्त करता हुँ।

    Vinay Parekh, Surat